31 C
Mumbai
Thursday, February 2, 2023

Latest Posts

हस्तरेखा भाग्य रेखा: हाथ की ये रेखा दर्शाती है कि कितना शक्तिशाली है आपका भाग्य…


हस्तरेखा भाग्य रेखा: हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार भाग्य रेखा को किसी के जीवन में भाग्य और भाग्य की आवृत्ति और मात्रा को प्रतिबिंबित करने के लिए माना जाता है। यह उसकी उपस्थिति और अनुपस्थिति की स्थिति भी है। यह दिल और शीर्षक सबसे मशहूर हस्तियों में से एक है।

भाग्य रेखा कहां होती है

भाग्य रेखा एक सीधी रेखा होती है जो हथेली के आधार से तर्जनी या मध्यमा उंगली के पास ऊपर तक जाती है। इसे शनि रेखा के नाम से भी जाना जाता है।

किस प्रकार के होते हैं भाग्य रेखा

कोई भाग्य रेखा नहीं- जिन लोगों के पास भाग्य रेखा नहीं होती है इसका मतलब यह नहीं है कि उनके पास भाग्य या समृद्धि की कोई मान्यता नहीं है। समय के साथ खाते खाते रहते हैं यह सत्यि है। यदि संयोग से जब आप ज्योतिष को अपना हाथ दिखाते हैं तो कोई भाग्य रेखा नहीं बनती है, यह करियर में निरंतर बदलाव और कोई स्थायी व्यवसाय नहीं होने का संकेत देता है।

गहरी और लंबी भाग्य रेखा

गहरी और लंबी भाग्य रेखा पेशेवर दृष्टिकोण में स्थिरता है। इसका मतलब यह हो सकता है कि वह व्यक्ति कोई नया व्यवसाय या करियर शुरू कर सकता है।

भाग्य रेखा सीधी लेकिन बीच में पतली

इस तरह की रेखा जीवन के युवा वर्षों के दौरान एक आसान करियर का वादा करती है लेकिन दुर्भाग्य से, मध्य आयु के बाद खराब होती है।

एडीएजी भाग्य रेखा

एक जिम्मेदार भाग्य रेखा हर कदम पर मोड़ और मोड़ के साथ परिणाम की भविष्यवाणी करती है। यहां तक ​​कि अगर व्यक्ति पूरी मेहनत करता है तो उसे भी कोई उपलब्धि नहीं मिल सकती है।

सांकेतिक और अस्पष्ट भाग्य रेखा

यदि भाग्य रेखा स्पष्ट नहीं है तो भाग्य या तो अच्छा या बुरा में बदलने की अनुमान है। यह स्थिर भी नहीं है और एक सत्यि जीवन भर चलने वाला नहीं है।

(अस्वीकरण: इस लेख में दी गई जानकारियां सामान्य विरासत पर आधारित हैं। प्रभातखाबर आधारित इसकी पुष्टि नहीं करता है। हमारी सलाह है कि इन पर अमल करने से पहले संबंधित से संपर्क करें।)

Source link

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.