25 C
Mumbai
Saturday, January 28, 2023

Latest Posts

‍Bihar: स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे भी बता देंगे असली नकली आभूषण में अंतर, जानें क्या सरकार की बड़ी योजना


बिहार के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले नौंवी से 12वीं तक के बच्चों को असली-नकली आभूषण की पहचान बतायी जायेगी. बच्चों को ज्वेलरी की हॉल मार्किंग के साथ ही कीमती धातुओं और उसकी गुणवत्ता पहचानने की ट्रेनिंग मिलेगी. इसको लेकर भारतीय मानक ब्यूरो की ओर से जिले के चार उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में स्टैंडर्ड क्लब बनाया जायेगा. इसको लेकर माध्यमिक शिक्षा निदेशालय की ओर से सभी डीइओ व डीपीओ को निर्देश जारी किया गया है.

बिहार के 31 जिलों में चार-चार स्कूल में बनेगा स्टैंडर्ड क्लब

मुजफ्फरपुर सहित बिहार के 31 जिलों में चार-चार स्कूलों में स्टैंडर्ड क्लब बनेगा, जबकि सात जिलों में तीन-तीन क्लब बनाने हैं. स्टैंडर्ड क्लब में नौवीं से 12वीं तक के 15 विद्यार्थी रहेंगे. एक शिक्षक को मेंटर बनाया जायेगा. क्लब के माध्यम से जिले में उपभोक्ताओं को जागरूक किया जायेगा. इसके साथ ही स्कूलों में जागरूकता संबंधी कई कार्यक्रमों का आयोजन होगा. लेखन, मानक और गुणवत्ता के मुद्दों पर प्रश्नोत्तरी, निबंध लेखन और वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन करना है, जिसके लिए भारतीय मानक ब्यूरो की ओर से प्रति स्कूल 10 हजार रुपये का बजट जारी किया जायेगा. स्कूल के स्टैंडर्ड क्लब के मेंटर का खाता खुलेगा. मेंटर को ही जिम्मेदारी दी जायेगी कि स्कूल में कराए जाने वाली एक्टिविटी की रिपोर्ट भेजते रहें. कंज्यूमर इंगेजमेंट पोर्टल पर गतिविधि कराने के सात दिनों के भीतर रिपोर्ट भेजनी होगी.

अब तक एक स्कूल से मिली है रिपोर्ट

डीपीओ माध्यमिक शिक्षा इंद्र कुमार कर्ण ने बताया कि जिले के चार स्कूलों में क्लब बनाया जाना है. इसको लेकर प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है. अब तक केवल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय तुर्की से ही विज्ञान शिक्षक का नाम मेंटर के लिए मिला है. अन्य तीन स्कूलों से शिक्षकों की सूची जल्द उपलब्ध कराने को कहा गया है. क्लब में विज्ञान के शिक्षक मेंटर होंगे, जबकि 16 छात्रों को सदस्य बनाया जायेगा.

मार्च तक बनेंगे देशभर में 10 हजार क्लब

भारतीय मानक ब्यूरो की ओर से आम उपभोक्ताओं को वस्तुओं की गुणवत्ता के बारे में जागरूक बनाने की दिशा में स्कूली स्तर से अभियान चलाया जायेगा. इसके तहत चालू वित्त वर्ष 2022-23 के दौरान देशभर के कुल 10 हजार स्कूलों में उपभोक्ता मानक क्लब की स्थापना की जायेगी. इसके लिए नौवीं से 12वीं कक्षा के विज्ञान के छात्रों को क्लब में शामिल किया जायेगा. दो दिवसीय कार्यशाला में छात्रों को वस्तुओं की गुणवत्ता और मानकों की अवधारणा से परिचित कराया जायेगा. यही बच्चे आस-पास के लोगों को जागरूक करेंगे.



Source link

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.